ख्वाब

ख्वाबो के पालने में कुछ खट्टी मीठी यादें...
ना जाने उन्हें कैसे पता, किन पालो को साथ पिरोये...
गुज़रते समय की यह छवि सुन्हैरी,
आज की यादें बने कल के ख्वाब.

Comments

Popular Posts